Visits Count

PostHeaderIcon दीवाली लक्ष्मी के पांच दिन

कार्तिक मास की अमावस्या का दिन दीपावली के रूप में पूरे देश में बडी धूम-धाम से मनाया जाता हैं। इसे रोशनी का पर्व भी कहा जाता है। कहा जाता है कि कार्तिक अमावस्या को भगवान रामचन्द्र जी चौदह वर्ष का बनवास पूरा कर अयोध्या लौटे थे। अयोध्या वासियों ने श्री रामचन्द्र के लौटने की खुशी में दीप जलाकर खुशियाँ मनायी थीं, इसी याद में आज तक दीपावली पर दीपक जलाए जाते हैं और कहते हैं कि इसी दिन महाराजा विक्रमादित्य का राजतिलक भी हुआ था। आज के दिन व्यापारी अपने बही खाते बदलते है तथा लाभ हानि का ब्यौरा तैयार करते हैं। दीपावली पर जुआ खेलने की भी प्रथा हैं। इसका प्रधान लक्ष्य वर्ष भर में भाग्य की परीक्षा करना है। लोग जुआ खेलकर यह पता लगाते हैं कि उनका पूरा साल कैसा रहेगा।

दीवाली का पहला दिन: धनतेरस

दीवाली के पहले दिन को धनतेरस के रूप में मनाया जाता है। धनतेरस को धनवन्तरी दिवस भी कहा जाता है। यह वास्तव में कृष्ण पक्ष, कार्तिक के महीने के तेरहवें दिन मनाया जाता है। इस दिन भगवान धनवन्तरी मानव जाति के उद्धार के लिए समुद्र से बाहर आए थे। इस दिन दीपावली समारोह की पूरे जोश के साथ शुरुआत हो जाती है।

सूर्यास्त के दौरान इस दिन हिंदु नहा कर मृत्यु के देवता यम राज की असामयिक मृत्यु से बचाव के लिए प्रार्थना करते हैं।पूजा का स्थान हमेशा तुलसी या किसी अन्य पवित्र वृक्ष के निकट बनाया जाना चाहिए। इस दिन धन के देवता कुबेर की पूजा की जाती है। कुबेर यंत्र की स्थापना कर, दीपक जला कर पूजा करें और मिठाई का प्रसाद अर्पित करें।

दिवाली का दूसरा दिन: छोटी दीवाली :

दीपावली के दूसरे दिन नरक चतुर्दशी भी कहा जाता है।ऐसा कहा जाता है कि इस दिन भगवान कृष्ण ने दानव नर्कासुर को नष्ट कर दुनिया को भय से मुक्त बना दिया था। इस दिन तेल से शरीर की मालिश की जाती है ताकि थकान से राहत मिल जाए और दीवाली शक्ति और भक्ति के साथ मनाया जा सके। इस दिन नवरत्न माला धारण करें जिससे आप उच्च पद प्राप्त कर सकेंगे और जीवन में विकास करेंगे।

दिवाली का तीसरा दिन: दीवाली पर लक्ष्मी पूजा :

जब तक माँ लक्ष्मी और भगवान गणेश की अराधना ना की जाए दिवाली का उत्सव अधूरा माना जाता है। हिंदू स्वयं को और उनके परिवारों को शुद्ध कर दिव्य देवी लक्ष्मी से बुराई पर अच्छाई और अंधकार पर प्रकाश की विजय प्राप्त करने का ,अधिक धन और समृद्धि का आशीर्वाद माँगते हैं। दिवाली के दिन लक्ष्मी और गणेश यंत्र के साथ हम श्री यंत्र की भी स्थापना कर सकते हैं। श्री यंत्र के द्वारा घर की सभी नकारात्मक ऊर्जा का नाश होता है व शांति, समृद्धि और सद्भाव की वृद्धि होती है।

दिवाली का चौथा दिन: पड़वा व गोवर्धन पूजा :

चौथे दिन गोवर्धन पूजा की जाती है। कई हजारों साल पहले, भगवान कृष्ण ने गोवर्धन पर्वत को उठा कर बृज के लोगों का उद्धार किया था।यही कारण है कि तब से, हर साल हिन्दू गोवर्धन पूजा कर के इस दिन को उत्सव के रूप में मनाते हैं। एक मुखी रूद्राक्ष को धारण कर आप जीवन में सफलता, सम्मान और धन की प्राप्ति कर सकते हैं।

दीवाली का पांचवा दिन: भाई दूज :

दीवाली के पांचवें दिन को  भाई दूज कहा जाता है। सामान्य रूप से यह दिन भाई बहनों को ही समर्पित होता है। यह मान्यता है कि वैदिक युग में मृत्यु के देवता यम ने इस दिन अपनी बहन यमुना के घर जाकर उनसे तिलक करवा कर उन्हे मोक्ष का वरदान दिया था। उसा प्रकार भाई इस दिन बहन के घर जाते हैं और बहनें टीका कर भाई की सुख समृद्धि की मंगल कामना करती हैं। भाई इस दिन बहनों को भेंट स्वरूप कुछ उपहार देते हैं। भाई उपहार के रूप में फेंग शुई गिफ्ट दे सकते हैं जो दिखने में भी आकर्षक होंगे और बहन के लिए सुख समृद्धि ले कर आएंगे। बहनें बगलामुखी यंत्र भाई को उपहार स्वरूप दे सकती हैं, जो सभी बुरी नज़र से भाई की रक्षा करेगा।

इस दिन धन व लक्ष्मी की पूजा के रूप में लोग लक्ष्मी पूजा में नोटों की गड्डी व चाँदी के सिक्के भी रखते हैं। इस दिन रंगोली सजाकर माँ लक्ष्मी को खुश किया जाता है। इस दिन धन के देवता कुबेर, इन्द्र देव तथा समस्त मनोरथों को पूरा करने वाले विष्णु भगवान की भी पूजा की जाती है। तथा रंगोली सफेद व लाल मिट्टी से बनाकर व रंग बिरंगे रंगों से सजाकर बनाई जाती है।

tags: diwali ki panch days, diwali pujas 5 days, deepavali pujas in 5 days, hindi deepavali puja, online download free

Leave a Reply

Powered By Indic IME